Logo
  • July 25, 2024
  • Last Update July 25, 2024 2:05 pm
  • Noida

‘भारत के भाव’ पर रूस से तेल खरीदने को तैयार Pakistan , वित्त मंत्री ने अमेरिकी में किया ऐलान

‘भारत के भाव’ पर रूस से तेल खरीदने को तैयार Pakistan , वित्त मंत्री ने अमेरिकी में किया ऐलान

विनाशकारी बाढ़ और लड़खड़ाती अर्थव्यवस्था से जूझ रहे Pakistan ने रूस की ओर रुख किया है। पाकिस्तान के वित्त मंत्री इशाक डार ने कहा है कि उनका देश रूस से उसी भाव पर तेल खरीदने को तैयार है, जिस भाव पर पड़ोसी देश भारत को उपलब्ध कराया जा रहा है। इशाक डार पाकिस्तान के नवनियुक्त वित्त मंत्री हैं। द न्यूज इंटरनेशनल के अनुसार, उन्होंने ये टिप्पणी अमेरिका (यूएस) की आधिकारिक यात्रा के दौरान की।

मीडियाकर्मियों के साथ बातचीत करते हुए, मंत्री ने यह भी कहा कि पाकिस्तान में आई विनाशकारी बाढ़ के कारण बहुत कठिनाई हुई है। उन्होंने कहा कि उन्हें इस बात की उम्मीद है कि अगर पाकिस्तान रूस से रियायती ईंधन खरीदता है तो पश्चिमी देशों को उससे कोई समस्या नहीं होगी। द न्यूज ने इशाक डार के हवाले से कहा, “मैंने वाशिंगटन में अपनी 4 दिवसीय यात्रा के दौरान अंतरराष्ट्रीय वित्तीय संस्थानों, अमेरिका, सऊदी अरब और अन्य देशों के अधिकारियों के प्रमुखों के साथ 58 बैठकें की हैं।”

पाकिस्तान में बाढ़ पर चर्चा के लिए आयोजित एक गोलमेज सम्मेलन में, पाकिस्तान के वित्त मंत्री ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम, एशियाई विकास बैंक और विश्व बैंक के अधिकारियों ने वहां एक संयुक्त रिपोर्ट प्रस्तुत की है। पाक मंत्री ने रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा, “बाढ़ के कारण पाकिस्तान को 32.40 अरब डॉलर का नुकसान हुआ है। पाकिस्तान को पुनर्वास कार्य के लिए 16 अरब डॉलर से अधिक की जरूरत है।”

एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, पाकिस्तान भुखमरी की ओर बढ़ रहा है। पूरे देश में अभूतपूर्व बाढ़ से बुरी तरह प्रभावित पाकिस्तान अब रूस की ओर देख रहा है। पाकिस्तान यूक्रेन में जारी संघर्ष के बीच प्रतिबंधों से प्रभावित रूस से गेहूं खरीदने की योजना बना रहा है। मॉस्को में पाकिस्तानी राजदूत शफकत अली खान ने समाचार एजेंसी TASS के साथ एक साक्षात्कार में कहा, “दोनों तकनीकी पक्ष पहले से ही इस पर चर्चा कर रहे हैं। हम रूस से गेहूं खरीदना चाहते हैं।”

Pakistan के अस्पताल का खौफनाक मंजर, तालिबान भी बोला- यह कसाइयों का देश है

पाकिस्तानी राजदूत ने कहा कि जब मामला खाद्य संकट का हो और खाद्य आपूर्ति की बात आए तो वे रूस को एक दीर्घकालिक और स्थिर भागीदार के रूप में देखते हैं। उन्होंने कहा, “…रूस हमारे लिए एक नए आपूर्तिकर्ता के रूप में उभरा है। पहले हम अलग-अलग देशों से करते थे। जब हमारे लिए खाद्य आपूर्ति की बात आती है तो हम रूस को एक दीर्घकालिक, स्थिर भागीदार के रूप में देखते हैं।”

 

editor
I am a journalist. having experiance of more than 5 years.

Related Articles