Logo
  • May 22, 2024
  • Last Update April 12, 2024 4:42 pm
  • Noida

Israel Hamas War का 14वां दिन, गाजा पट्टी में तबाही के मंजर, PM Modi Palestine के साथ! राष्ट्रपति अब्बास से कहा- मानवीय सहायता भेजना जारी रखेगा भारत

Israel Hamas War का 14वां दिन, गाजा पट्टी में तबाही के मंजर, PM Modi Palestine के साथ! राष्ट्रपति अब्बास से कहा- मानवीय सहायता भेजना जारी रखेगा भारत

Israel Hamas War के 14वें दिन गाजा पट्टी से आई तस्वीरें विचलित करने वाली हैं। इस्राइली सेना की तरफ से हुई बमबारी के बाद गाजा पट्टी के कई इलाकों में धुएं का गुबार देखा गया। तबाही के मंजर का आलम ये है कि लोग मलबों को नंगे हाथों से हटाकर लापता परिजनों की तलाश कर रहे हैं। हमास के पांच हजार रॉकेट के जबाव में इस्राइली सेना की तरफ से हो रही कार्रवाई गत दो हफ्ते से जारी है। दोनों तरफ से जारी गोलाबारी में अब तक करीब पांच हजार लोगों की मौत हो चुकी है।

इस्राइल, गाजा-पट्टी में कितने लोगों की मौत

हमास के हमले में 1400 इजराइली मारे गए, जबकि जवाबी कार्रवाई के दौरान गाजा पट्टी पर 3780 से अधिक लोग मारे जा चुके हैं। 12 हजार से अधिक लोगों के घायल होने की खबरें हैं। हालात बेहद संवेदनशील हैं। पश्चिमी देशों से मिले समर्थन के बाद नेतन्याहू ने सैन्य कार्रवाई जारी रखने की बात कही है। बता दें कि उन्होंने हमास को जड़ से मिटा देने की कसम खाई है।

फिलिस्तीन की तीसरी सबसे बड़ी मस्जिद जमींदोज

गाजा के आंतरिक मंत्रालय की तरफ से जारी बयान में शुक्रवार को बताया गया कि इजराइली हवाई हमले में उत्तरी गाजा पट्टी में ऐतिहासिक अल-ओमारी मस्जिद को नष्ट कर दी गई है। अनादोलु के एक बयान के अनुसार, इस्राइल की सेना लगातार इमारतों को निशाना बना रही है। प्राचीन मस्जिद 7वीं शताब्दी की है और फ़िलिस्तीन में इसका ऐतिहासिक महत्व है। ये देश की तीसरी सबसे बड़ी मस्जिद है।

गौरतलब है कि युद्ध के बीच इजराइल के पीएम दुनियाभर से समर्थन करने की अपील कर चुके हैं। Israel PM Modi के कार्यकाल में भारत के साथ रिश्तों को बेहतर करने की दिशा में भी कई कदम उठा चुका है। प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू और प्रधानमंत्री मोदी के प्रगाढ़ रिश्तों पर भी कई खबरें सामने आ चुकी हैं। दोनों देशों के संबंधों का जिक्र इसलिए क्योंकि लगभग दो हफ्ते से जारी इजराइल और हमास के युद्ध के बीच, भारत के अलावा पश्चिमी दुनिया से अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस जैसे कई देश इजराइल के समर्थन में सामने आए हैं।

हालांकि, कूटनीतिक और सामरिक नजरिए से भारत और फिलिस्तीन का रिश्ता भी काफी अहम रहा है। संघर्ष में मारे गए हजारों लोगों में कई फिलिस्तीनी नागरिकों की मौतें भी हुई हैं। पश्चिमी एशिया (West Asia or Middle East) के इस अभूतपूर्व मानवीय संकट के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फिलिस्तीन के राष्ट्रपति से बात की।

युद्ध के 13वें दिन गुरुवार को पीएम मोदी ने ट्वीट कर लिखा, फ़िलिस्तीनी प्राधिकरण के महामहिम राष्ट्रपति महमूद अब्बास से बात की। उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति से फोन पर बात करने के दौरान भारत की जनता की तरफ से उन्होंने गाजा के अल अहली अस्पताल में नागरिकों की मौत पर अपनी संवेदना व्यक्त की।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, हम फ़िलिस्तीनी लोगों के लिए मानवीय सहायता भेजना जारी रखेंगे। उन्होंने कहा कि फिलिस्तीन के राष्ट्रपति से बात करने के दौरान क्षेत्र में आतंकवाद, हिंसा और बिगड़ती सुरक्षा स्थिति पर अपनी गहरी चिंता साझा की। पीएम मोदी ने इजराइल-फिलिस्तीन मुद्दे पर भारत की लंबे समय से चली आ रही सैद्धांतिक स्थिति को दोहराया।


बता दें कि पीएम मोदी ने सात अक्टूबर के दिन हुए आतंकी हमलों के बाद इस्राइल के समर्थन में बयान दिया था। प्रधानमंत्री मोदी ने हमास के आतंकी हमले की निंदा करते हुए इजराइल के साथ खड़े होने का भरोसा दिलाया था।

Related Articles