Logo
  • April 15, 2024
  • Last Update April 12, 2024 4:42 pm
  • Noida

Anti Rabies Injection, इन जानवरों के काटने से फैलता है रैबिज, अब मिलेगा इंजेक्शन

Anti Rabies Injection, इन जानवरों के काटने से फैलता है रैबिज, अब मिलेगा इंजेक्शन

Anti Rabies Injection,  वाराणसी के सभी अस्पतालों को एण्टी स्नैक व एण्टी रेबीज वैक्सीन (Anti Rabies Injection) उपलब्ध कराने का निर्देश दिया गया है। अब जिले के सभी सरकारी अस्पतालों में 24 घंटे इंजेक्शन लगेगा।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. संदीप चौधरी ने इस आशय का निर्देश जिले के सभी सरकारी अस्पतालों को देते हुए एआरवी (Anti Rabies Injection) व एएसवी (Anti Snake Venum) की व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए भी कहा है।

इन अस्पतालों में मिलेगा फ्री इंजेक्शन
मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने बताया कि श्री शिव प्रसाद गुप्त मण्डलीय चिकित्सालय कबीरचौरा, पंडित दीनदयाल उपाध्याय राजकीय चिकित्सालय पाण्डेयपुर, लाल बहादुर शास्त्री चिकित्सालय रामनगर सहित जनपद के समस्त ब्लाक स्तरीय प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों एवं समस्त शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्र के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रो के आकस्मिक कक्ष में एआरवी एवं एएसवी की वैक्सीन निःशुल्क 24 घंटे लगेगी।

इनके काटने के फैलता है रैबिज
सभी सरकारी अस्पतालों के आकस्मिक कक्ष के सामने वाल पेटिंग के जरिये यहाँ पर एआरवी एवं एएसवी वैक्सीन की सुविधाएं 24 घंटे निःशुल्क उपलब्ध हैं। सीएमओ ने बताया कि रेबीज़, एक जानलेवा बीमारी है जोकि कुत्ते, बिल्ली, बंदर, छछूंदर, चूहों आदि जानवरों के काटने या खरोंचने के कारण होता है।

इतने दिन बाद दिखता है लक्षण
काटने के बाद इसके लक्षण एक से तीन महीने में दिखाई देते हैं। अगर इसको शुरुआत में रोका न गया तो यह बेहद गंभीर साबित हो सकता है। उन्होने कहा कि जानवरों के काटने को तीन भागों में बांटा गया है।

पहला जानवर का चाटना जो सामान्य है। दूसरा खरोंचना या पूर्व के घाव को चाटना और तीसरा दाँत गड़ाकर काटना। इस गंभीर स्थिति में 24 घंटे के अंदर पहला इंजेक्शन लगवाना चाहिए। इसके बाद तीसरे, सातवें और 28वें दिन भी टीकाकरण अनिवार्य रूप से करवाना चाहिए। जानवरों की लार से पनपे विषाणु से बचने के लिए यह चारों टीके (एंटी रेबीज़ टीकाकरण कोर्स) समय से लगवाना बेहद जरूरी है।

editor

Related Articles