Logo
  • May 23, 2024
  • Last Update April 12, 2024 4:42 pm
  • Noida

कर्नाटक में कांग्रेस कलह पर आया सिद्धारमैया-डीके शिवकुमार का बयान

कर्नाटक में कांग्रेस कलह पर आया सिद्धारमैया-डीके शिवकुमार का बयान

कर्नाटक के सीएम सिद्धारमैया और डिप्टी सीएम डीके शिवकुमार ने कांग्रेस पार्टी की राज्य इकाई के भीतर किसी तरह के असंतोष को खारिज करते हुए अफवाहों का खंडन किया है। उनका बयान ऐसे वक्त पर आया जब कथित तौर पर 11 विधायकों की तरफ से मुख्यमंत्री को लिखे गए लेटर में 20 मंत्रियों की कार्यशैली और उनके निर्वाचन क्षेत्रों में विकास कार्यों पर चिंता व्यक्त की गई थी। दोनों नेताओं ने कहा कि सब कुछ ठीक है। इस तरह की कोई शिकायत नहीं आई है। सिद्धारमैया और शिवकुमार ने कहा कि सरकार के विभिन्न कार्यक्रमों और नीतियों पर चर्चा करने और सरकार और पार्टी विधायकों के बीच समन्वय सुनिश्चित करने के लिए एक नियमित अभ्यास के हिस्से के रूप में गुरुवार (27 जुलाई) को विधायक दल की बैठक बुलाई गई है।

क्या बोले सिद्धारमैया?
प्रदेश में सत्तारूढ़ दल के 30 विधायकों के मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर मंत्रियों की कार्यप्रणाली और विकास कार्य नहीं होने की शिकायत के बारे में सिद्धारमैया ने पूछा, “आपको किसने बताया?” मुख्यमंत्री ने बताया कि उन्होंने पिछले सप्ताह ही विधायक दल की एक बैठक बुलाई थी, लेकिन कांग्रेस नेता राहुल गांधी एक बैठक की अध्यक्षता करने वाले थे, इसलिए इसे स्थगित कर दिया गया था। सिद्धरमैया ने कहा कि इसलिए उन्होंने गुरुवार (27 जुलाई ) को एक बार फिर बैठक बुलाई है। सिद्धारमैया ने कहा, “हम वहां इस पर चर्चा करेंगे। सरकार बने अभी दो महीने ही हुए हैं। विधायक दल की बैठक बुलानी ही थी, इसलिए मैंने बुलाई। मंत्रियों के खिलाफ कोई शिकायत नहीं है।”

हालांकि, शिवकुमार के उन दावों के बारे में मुख्यमंत्री ने कोई टिप्पणी नहीं की, जिसमें शिवकुमार ने कहा था कि कर्नाटक की कांग्रेस सरकार को गिराने के लिए सिंगापुर में साजिश रची जा रही है। उन्होंने कहा, “सिंगापुर के बारे में, आप डीके शिवकुमार से पूछें, मुझे इसके बारे में नहीं पता।” उपमुख्यमंत्री शिवकुमार के दावे से सोमवार (24 जुलाई) को राजनीतिक जगत में हलचल मच गई थी। खबरों के अनुसार, कांग्रेस के विधायकों ने मुख्यमंत्री और पार्टी नेतृत्व से शिकायत की है कि वे अपने निर्वाचन क्षेत्रों में काम नहीं करवा पा रहे हैं। शिवकुमार ने ऐसी खबरों को फर्जी और महज अटकलें करार दिया है।

 

पुलवामा हमले में शहीद 40 CRPF जवानों को कितना मिला मुआवजा?

 

क्या था शिवकुमार का बयान
शिवकुमार ने कहा, “यह सब झूठ है, किसी ने ऐसा पत्र नहीं लिखा है। मुख्यमंत्री और मैंने सभी मंत्रियों से, सभी विधायकों और सभी निर्वाचन क्षेत्रों के हारे हुए उम्मीदवारों को विश्वास में लेकर काम करने का अनुरोध किया है। सभी अपना काम कर रहे हैं। ये महज अटकलों के अलावा कुछ नहीं है।” उपमुख्यमंत्री ने कहा, “कुछ कार्यक्रम हैं, जिन पर चर्चा होनी थी, विधानसभा सत्र था। हमारी पांच गारंटी योजनाएं लोगों तक पहुंच रही हैं या नहीं, कहीं भ्रष्टाचार तो नहीं हो रहा है, इन सबके संबंध में हमें अपने विधायकों को चर्चा करनी थी, मार्गदर्शन देना था और जानकारी देनी थी। विधानसभा सत्र के दौरान समय नहीं मिलने के कारण इन सभी मुद्दों पर चर्चा करने के लिए विधायक दल की बैठक नहीं बुलाई जा सकी थी।”

editor
I am a journalist. having experiance of more than 5 years.

Related Articles