Logo
  • July 24, 2024
  • Last Update June 22, 2024 7:38 am
  • Noida

Dev Deepawali के मौके पर अमर शहीदों का पुण्य स्मरण, दशाश्वमेध घाट से आकाशदीप प्रज्वलन

Dev Deepawali के मौके पर अमर शहीदों का पुण्य स्मरण, दशाश्वमेध घाट से आकाशदीप प्रज्वलन

Dev Deepawali के मौके पर काशी की छटा निराली होती है। अनवरत तीन दशक से भी ज्यादा समय से आध्यात्मिकता और राष्ट्रवाद को संकल्पित व समर्पित विश्व प्रसिद्ध भव्य देव-दीपावली महोत्सव इस वर्ष भी राष्ट्र के अमर वीर योद्वाओं को समर्पित रहेगी। साथ ही साथ वर्शों से चली आ रही ‘एक संकल्प गंगा किनारे’ के माध्यम से माँ गंगा को स्वच्छ एवं निर्मल बनाने, पर्यावरण व जल संरक्षण की पहल की जाएगी। इसके लिए गंगा सेवा निधि द्वारा देव दीपावली महोत्सव में देश-विदेश से आये हुए लाखों श्रद्धालुओं व पर्यटकों से माँ गंगा के तट पर संकल्प दिलाया जाएगा। संस्था द्वारा यह आह्वान किया जाएगा कि माँ गंगा को स्वच्छ और निर्मल बनाये रखने में आप सभी अपना योगदान दें। गंगा सेवा निधि परिवार ने माँ गंगा को निर्मल रखने में सहयोग करने की अपील की है।

अपने स्वजनों की स्मृति में आकाशदीप की परिकल्पना के साथ देशभक्ति को आज से दो दशक से भी ज्यादा समय से पहले से आयोजित किया जा रहा है। 1999 में कारगिल युद्ध विजय के उपलक्ष्य में भी अमर शहीदों की पुण्य स्मृति में आकाशदीप संकल्प का विस्तारीकरण किया गया था। गंगा सेवा निधि संस्था भारत के अमर वीर योद्धाओं की स्मृति में सम्पूर्ण कार्तिक मास में आकाश दीप जलाती है। हर साल आध्यात्मिकता और राष्ट्रवाद को समर्पित भव्य देव-दीपावली महोत्सव के साथ ही आकाशदीप का समापन किया जाता है। भारत के अमर वीर योद्धाओं को ‘भगीरथ शौर्य सम्मान’ से सम्मानित भी किया जाता है।

काशी में सदियों-सदियों से गंगा घाटों पर अपने पूर्वजों की स्मृति में, उनके स्वर्ग लोक की यात्रा के मार्ग को आलोकित करने के लिए आकाश-दीप जलाने की परम्परा रही है। आकाश-दीप से जुड़े कथानकों में ऐसी मान्यता है कि महाभारत युद्ध में प्राण विसर्जित करने वाले वीरों की स्मृति में भीष्म ने कार्तिक मास में दीप मालिकाओं से उन्हें संन्तर्पण दिया था। इस साल काशी में आकाशदीप महोत्सव दिनांक 07 नवम्बर, 2022, सोमवार, सायंकाल 5.20 बजे वृहद रूप में दशाश्वमेध घाट पर आयोजित किया जायेगा।

Dev Deepawali

कार्यक्रम का प्रारम्भ गंगा सेवा निधि के संस्थापक स्मृतिशेष पं. सत्येन्द्र मिश्र को पुष्पांजलि अर्पित करके होगा। तत्पश्चात प्रो. रेवती साकलकर गणपति वंदना समेत देश-भक्ति गीतों की प्रस्तुति भी करेंगी। गंगा सेवा निधि ने अमर जवान ज्योति की अनुकृति भी काशी में तैयार कराई है। संस्था के कोषाध्यक्ष आशीष तिवारी अमर जवान पर पुष्पचक्र अर्पित करेंगे। जनरल ऑफिसर कमांडिंग (मुख्यालय, पूर्व उत्तर प्रदेश) और मध्य प्रदेश सब एरिया ब्रिगेडियर राजीव नाग्याल, एयर कमाडोर अनुज गुप्ता, एयर ऑफिसर कमॉडिंग, 4 वायु सेना प्रवरण बोर्ड, वाराणसी, कमाण्डेन्ट अनिल कुमार वृक्ष, 95 बटालियन, सी.आर.पी.एफ., वाराणसी कमाण्डेन्ट मनोज शर्मा, 11वीं वाहिनी, एन.डी.आर.एफ., वाराणसी एवं वाराणसी पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी भी अमर जवान पर पुष्पांजलि और श्रद्धांजलि अर्पित की जाएगी। 39 जीटीसी के जवानों द्वारा लास्ट पोस्ट व गार्ड ऑफ ऑनर भी दिया जायेगा।

अमरवीर शहीदों- 92 BN CRPF अश्विनी कुमार यादव (075022382 CT/GD) और 92 BN CRPF धर्मदेव कुमार (135028081 CT/GD) की स्मृति में आकाशदीप प्रज्ज्वलित की जाएगी। गंगा सेवा निधि के संस्थापक स्मृतिषेश पं. सत्येन्द्र मिश्र को देव-दीपावली महोत्सव (07 नवम्बर, 2022) को भगीरथ शौर्य सम्मान से सम्मानित किया जायेगा। शहीदों के परिजनों को सहायता निधि भी दी जाएगी।

विश्व प्रसिद्ध देव-दीपावली महोत्सव-2022 में कारगिल विजय युद्ध के सेना नायक लेफिटनेंट जनरल मोहिंदर पुरी को भागीरथ अलंकरण से सम्मानित किया जाएगा। गंगा सेवा निधि के प्रमुख अर्चक्र आचार्य रणधीर के नेतृत्व में 21 ब्राह्मणों द्वारा भगवती माँ गंगा का वैदिक रीति से पूजन भी किया जायेगा। एक लाख दीपों से गंगा घाट का कोना-कोना जगमग हो उठेगा।

गंगा सेवा निधि संस्था के अध्यक्ष सुशांत मिश्र ने बताया कि भगवती माँ गंगा की आरती के दौरान देश-विदेश से आये लाखों श्रद्धालुओं को किसी प्रकार की दिक्कत न हो इसके लिए सुरक्षा की दृश्टि से संस्था द्वारा सी.सी.टी.वी. कैमरे भी लगाये जायेंगे। सहयोग की दृश्टि से भारत सेवा श्रम संघ के 100 स्वयं सेवक व गंगा सेवा निधि के 100 वालेन्टियर्स उपस्थित रहेंगे। साथ ही राजकीय चिकित्सालय द्वारा चिकित्सकों की टीम व एम्बुलेन्स की व्यवस्था की गयी हैं। 11वीं वाहिनी एन.डी.आर.एफ. की तरफ से वाटर एम्बुलेन्स की भी व्यवस्था की जायेगी।

Related Articles