Logo
  • May 21, 2024
  • Last Update April 12, 2024 4:42 pm
  • Noida

चंडीगढ़ पेंशनः मंहगाई के दौर में, वृद्धा व विधवा पेंशन मात्र हजार रुपये बढ़ा

चंडीगढ़ पेंशनः मंहगाई के दौर में, वृद्धा व विधवा पेंशन मात्र हजार रुपये बढ़ा

चंडीगढ़ः वृद्धावस्था पेंशन व विधवा पेंशन को 500 रुपये से बढ़ाकर एक हजार रुपये कर दिया गया है, ये पेंशन सात साल के बाद बढ़ाई गई है इससे पहले 2016 में बढ़ाई गई थी. उसके बाद से एक भी बार पेंशन नहीं बढ़ी है. लिहाजा मंहगाई के इस दौर में 1000 को मूल्य बहुत कम है जबकी एक गैस सिलिंडर का दाम भी इससे ज्यादा है. जानकारी के अनुसार दो राज्यों की राजधानी व केंद्र शासित प्रदेश में पूरे उत्तर भारत में सबसे कम मात्र एक हजार रुपये पेंशन है जबकि पड़ोसी राज्य हरियाणा में करीब इससे तीन गुना पेंशन मिलती है.

जानकारी के अनुसार यूटी प्रशासक की तरफ से बनाई गई समाज कल्याण समिति की तरफ से करीब तीन साल पहले पेंशन को बढ़ाकर एक हजार रुपये से दो हजार रुपये करने का प्रस्ताव भेजा गया था. प्रशासन ने इसे केंद्रीय गृह मंत्रालय को मंजूरी के लिए भेजा भी, लेकिन आज तक बुजुर्ग पेंशन के बढ़ने के इंतजार में बैठे हैं. इस प्रस्ताव से लगभग शहर के करीब 25 हजार लोगों को फायदा मिल सकेगा. दो राज्यों की राजधानी व केंद्र शासित प्रदेश में पूरे उत्तर भारत में सबसे कम मात्र एक हजार रुपये पेंशन है, यह समस्या राज्य और केंद्र सरकार के बीच जूझ रही है.

पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश समेत लगभग सभी राज्य कई बार पेंशन की राशि को बढ़ा चुके हैं, हरियाणा ने तो पिछले सात साल में सात बार पेंशन बढ़ाई है. आपको बता दें कि 2016 में हरियाणा में पेंशन करीब 1400 रुपये थी जो अब 2750 रुपये बढ़ा दी गई है. अन्य राज्यों में भी तीन से चार बार पेंशन की राशि बढ़ चुकी है लेकिन प्रशासन व केंद्र शहर के बुजुर्गों के प्रति कुछ खास कार्य नहीं किया गया है.

editor

Related Articles