Logo
  • April 16, 2024
  • Last Update April 12, 2024 4:42 pm
  • Noida

.तो कड़े फैसले से परहेज नहीं, अशोक गहलोत-सचिन पायलट को Congress का कड़ा संदेश

.तो कड़े फैसले से परहेज नहीं, अशोक गहलोत-सचिन पायलट को Congress का कड़ा संदेश

राजस्थान में सीएम गहलोत और सचिन पायलट के बीच की रार पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के लिए चिंता का विषय बनने लगी है। भारत जोड़ो यात्रा पर भी इसका असर साफ दिखाई देने लगा है। रविवार को इंदौर में वरिष्ठ congress नेता जयराम रमेश की बातों से भी इसकी चिंता साफ झलकती नजर आई। गहलोत और पायलट के बीच चल रही शब्दों की जंग के बीच जयराम रमेश ने कहा कि पार्टी के लिए राजस्थान में संगठन सर्वोपरि है। इसकी मजबूती के लिए जरूरत पड़ने पर ‘कठोर निर्णय’ लेने से भी पीछे नहीं हटेगी।

हमारे लिए संगठन सर्वोपरि
राहुल गांधी की अगुवाई वाली भारत जोड़ो यात्रा के इंदौर में पड़ाव के दौरान रमेश ने पत्रकारों से कहा कि हमारे लिए संगठन सर्वोपरि है। राजस्थान के मसले का हम वही हल चुनेंगे, जिससे हमारा संगठन मजबूत होगा। इसके लिए अगर हमें कठोर निर्णय लेने पड़े तो कठोर निर्णय लिए जाएंगे। अगर (गहलोत और पायलट के गुटों के बीच) समझौता कराया जाना है तो समझौता कराया जाएगा। गहलोत-पायलट की रार के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि congress नेतृत्व राजस्थान के मसले के उचित हल पर विचार कर रहा है।

गहलोत को कुछ शब्दों से बचना चाहिए था
कांग्रेस के मीडिया विभाग के प्रभारी रमेश ने कहा कि लेकिन मैं इस हल की कोई समय-सीमा तय नहीं कर सकता। इस हल की समय-सीमा केवल कांग्रेस नेतृत्व तय करेगा। उन्होंने दोहराया कि कांग्रेस को गहलोत और पायलट, दोनों की जरूरत है। गौरतलब है कि गहलोत ने एक टीवी चैनल को हाल ही में दिए साक्षात्कार में पायलट को ‘गद्दार’ करार देते हुए कहा था कि उन्होंने वर्ष 2020 में कांग्रेस के खिलाफ बगावत की थी और गहलोत नीत सरकार को गिराने की कोशिश की थी, इसलिए उन्हें मुख्यमंत्री नहीं बनाया जा सकता। रमेश ने कहा कि राजस्थान के मुख्यमंत्री को इस साक्षात्कार में कुछ शब्दों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए था।

Gujarat assembly elections 2022: भाजपा के मजबूत गढ़ में सेंध! सूरत में केजरीवाल ने तैयार कर लिया फॉर्मूला

भारत जोड़ो यात्रा पर कही यह बात
रमेश ने भरोसा जताया कि राहुल की अगुवाई वाली भारत जोड़ो यात्रा अन्य राज्यों की तरह राजस्थान में भी सफल होगी। अभी मध्य प्रदेश से गुजर रही यह यात्रा चार दिसंबर को राजस्थान में दाखिल होगी, जहां अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं। गौरतलब है कि गुजरात में अगले महीने होने वाले विधानसभा चुनावों के लिए भाजपा ने अपने घोषणापत्र में मतदाताओं से वादा किया है कि सत्ता में बरकरार रहने पर वह राज्य में समान नागरिक संहिता लागू करेगी। रमेश ने कहा कि समान नागरिक संहिता पर संसद के अंदर और बाहर बहस होती रहनी चाहिए। लेकिन भाजपा चुनावों के समय जान-बूझकर विभाजनकारी मुद्दे उठाती है, ताकि वोटों का ध्रुवीकरण किया जा सके।

 

editor
I am a journalist. having experiance of more than 5 years.

Related Articles