Logo
  • April 24, 2024
  • Last Update April 12, 2024 4:42 pm
  • Noida

हार का डर या BJP-शिंदे ने मानी राज ठाकरे की बात?

हार का डर या BJP-शिंदे ने मानी राज ठाकरे की बात?

शिवसेना विधायक रमेश लटके के निधन के बाद अंधेरी पूर्वी विधानसभा सीट पर उपचुनाव की घोषणा हुई थी। इस चुनाव में उद्धव ठाकरे ने उनकी पत्नी रुतुजा लटके को शिवसेना (उद्धव बालासाहेब ठाकरे) का उम्मीदवार बनाया है। BJP ने इस दंगल में मुरजी पटेल को चुनाव मैदान में उतारा था। आज दोपहर खबर आई कि भगवा पार्टी ने अपने कैंडिडेट का नाम वापस ले लिया है। इसके बाद रुतुजा का निर्विरोध जीतना तय माना जा रहा है। आपको बता दें कि महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (MNS) चीफ राज ठाकरे ने देवेंद्र फडणवीस को पत्र लिखकर पटेल के नामांकन को वापस लेने की अपील की थी।

अंधेरी पूर्वी विधानसभा सीट के लिए जब उपचुनाव की घोषणा हुई तो इसे बीएमसी चुनाव का सेमीफाइनल माना गया। कहा गया है कि इस उपचुनाव के नतीजे का संदेश बीएमसी तक जाएगी। इसलिए उद्धव ठाकरे और एकनाथ शिंदे दोनों खेमे के लिए यह लड़ाई काफी अहम मानी जा रही थी।

अंधरी पूर्वी विधानसभा सीट की लड़ाई काफी रोचक होने वाली थी। एक तरफ जहां मराठी ऋतुजा लटके चुनाव उद्धव खेमे से उम्मीदवार थीं वहीं, बीजेपी-शिंदे कैंप की तरफ से मुरजी पटेल मैदान में उतरे थे, जो कि गुजराती हैं। उद्धव ठाकरे कैंप की तरफ से इस चुनाव को गुजराती बनाम मराठी बनाने की पूरी कोशिश की जा रही थी।

अंधेरी उपचुनाव में Eknath Shinde को झटका, खेमे के MLA ने की उद्धव ठाकरे के कैंडिडेट को निर्विरोध जिताने की अपील

ऐसा इसलिए कि इस सीट पर हिंदी और मराठी भाषी मतदाताओं का बोलबाला है। कुछ ही इलाकों में गुजरातियों की आबादी है। रमेश लटके के लिए भी मराठी वोटर एकजुट होकर वोट करते आ रहे थे। 2014 के मोदी लहर में भी उन्होंने इस सीट से जीत हासिल की थी। इतना ही नहीं, इस चुनाव में उद्धव के कैंडिडेट के पक्ष में सहानुभूति वोट की लहर चलने की प्रबल संभावना थी।

 

editor
I am a journalist. having experiance of more than 5 years.

Related Articles